0

0

0

0

0

0

इस आलेख में

दूध बच्चों के लिए संपूर्ण आहार है या नहीं?
2

दूध बच्चों के लिए संपूर्ण आहार है या नहीं?

दूध बच्चे के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह उन्हें ऊर्जा प्राप्त करने में मदद करता है और उनके  खाने को पचाने में मदद करता है।

Milk, which is considered a complete food, should be an indispensable part of a child's diet

दूध और मनुष्यों के बीच का रिश्ता बहुत पुराना है, प्राचीन समय में ही हमारे पूर्वज इसके महत्व को समझते थे। हालांकि, हाल के दिनों में इस पर बहुत विवाद हो रहा है जहां स्वास्थ्य लाभों की बात की जा रही है। इस विवाद के बावजूद, बच्चों के लिए दूध के लाभों को नकारा नहीं जा सकता है। सच्चाई यह है कि दूध एक संपूर्ण आहार है और महत्वपूर्ण पोषक तत्वों का महान स्रोत है। एक्सपर्टों के मुताबिक, बच्चों के आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा होने के लिए दूध, एक अन्योन्य जुड़ाव का होना चाहिए।

वैज्ञानिकों के अनुसार, माता-पिता के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि वे दूध के स्वास्थ्य लाभों के बारे में अवगत हों और बच्चों को एक पौष्टिक थाली के साथ हमेशा एक गिलास दूध प्रदान करें।

 

दूध में पाए जाने वाले पोषक तत्व

आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ अंजना नायर के अनुसार, दूध में प्रोटीन, कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन बी (जैसे बी विटामिन और बी 12) और घुलनशील विटामिन (जैसे विटामिन ए, डी और ई) इत्यादि महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में होते हैं। यह उन सभी आवश्यक नुत्रिएंतों का अच्छा स्रोत होता है।

वह कहती हैं कि दूध बच्चे के विकास के दौरान पाचन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह भोजन से ऊर्जा प्राप्त करने में मदद करने वाली रासायनिक प्रतिक्रिया होती है।

हार्वर्ड थ चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ बताती है कि गाय के दूध में करीब 87 प्रतिशत पानी होता है। शेष 13 प्रतिशत में प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन और खनिज शामिल होते हैं। और इसके अलावा, फैट कम वाली दूध को विभिन्न प्रसंस्करण तकनीकों के जरिए तैयार किया जाता है। इन प्रकार, कम वासा वाली दूध में लगभग 2 प्रतिशत फैट होती है और बिना फैट या स्किम दूध में प्राकृतिक रूप से कोई फैट नहीं होती है।

 

दूध की मात्रा बहुत ज्यादा होना  सेहत के लिए अच्छा नहीं

दूध तो बच्चों के आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा है, परंतु इसे अधिक सेवन से हानिकारक प्रभाव हो सकता है।

अधिक दूध पीने से सूजन हो सकती है। डॉ सुप्रजा चंद्रशेखर, डीई हॉस्पिटल्स के पीडियाट्रिक इंटेंसिविस्ट और डायरेक्टर ऑफ पीडियाट्रिक सर्विसेज, बेंगलुरू, बताती हैं कि बच्चों के लिए प्रतिदिन 500 मिलीग्राम से अधिक दूध नहीं पीना चाहिए।

अंजना बच्चों के लिए यह सलाह नहीं देती हैं कि कम फैट वाले दूध पिएं, क्योंकि बच्चों के विकास के लिए दूध में मौजूद फैट आवश्यक है। हालांकि, उनका कहना है कि दूध की मात्रा कम होनी चाहिए।

 

प्लांट प्रोटीन vs पशु प्रोटीन

व्यक्ति ने कई सालों से शाकाहार को अपना बनाया है, लेकिन विशेषज्ञों की सलाह है कि बच्चों को दूध और पशु प्रोटीन से पूरी तरह से वंचित नहीं करना चाहिए।

दूध की महत्वता को ध्यान में रखते हुए, डॉ सुप्रजा बताती हैं कि पौधों के दूध से जानवरों के दूध को बदलना समझदारी नहीं है, क्योंकि पौधों के आर्क्‍स जानवरों के दूध के पौष्टिक लाभों की पूर्ति नहीं कर पाते हैं।

शाकाहारियों को पशु प्रोटीन केवल दूध से ही मिलता है। डॉ सुप्रजा बताती हैं कि शाकाहारी खाद्य जो पशु उत्पादों से वंचित होता है, इसके कारण बच्चों में विटामिन बी 12 की कमी और अन्य विटामिनों की कमी भी हो सकती है।

पशु प्रोटीन के बिना आहार चयापचय और न्यूरो संबंधी समस्याओं को प्रभावित कर सकता है और उन्हें बढ़ावा दे सकता है।

वह यह ध्यान रखती है कि शाकाहारी माता-पिता को यह सुनिश्चित करने के लिए अपने बच्चे की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए पेशेवर सलाह लेनी चाहिए।

 

बच्चों को दूध पीना नहीं पसंद तो क्या करें?

कुछ बच्चों को दूध पीने से नफरत हो सकती है, जिसके कारण माता-पिता को उनके सही पोषण की ज़रूरतों को पूरा करना काफी मुश्किल हो सकता है।

यदि किसी बच्चे को दूध पसंद नहीं होता, तो हम उन्हें पनीर, दही और अन्य डेयरी उत्पादों का सेवन करवा सकते हैं। अंजना बताती हैं कि माता-पिता दूध के साथ बिना चीनी के केवल शहद या गुड़ मिलाकर स्वस्थ मिठाई भी तैयार कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, माता-पिता को अपने बच्चों के लैक्टोज असहिष्णुता (lactose intolerance)  के लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए। यह एक स्थिति है जब बच्चों को लैक्टेज नामक पाचन एंजाइम की कमी के कारण दूध में मौजूद शक्कर (लैक्टोज) को पचाने में परेशानी होती है। इस प्रकार के मामलों में, बच्चे को दूध या दूध से बने उत्पादों का सेवन करने के बाद पेट में असुविधा की संभावना हो सकती है।

 

टेकअवे

दूध बच्चों के लिए संपूर्ण भोजन है जो कैल्शियम, प्रोटीन, फैट और विटामिन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है।

दूध बच्चे के विकास के चरणों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है लेकिन इसका अत्यधिक सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकत है।

पौधे के दूध जैसे शाकाहारी प्रतिस्थापन पशु दूध के पोषण संबंधी लाभों की भरपाई नहीं करते हैं।

जिन बच्चों को दूध नापसंद है उन्हें पनीर और दही जैसे अन्य डेयरी उत्पाद दिए जा सकते हैं।

अपना अनुभव/टिप्पणियां साझा करें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

प्रचलित

लेख

लेख
चूंकि शोल्डर इम्पिंगमेंट सिंड्रोम रिवर्सिबल है, यह सलाह दी जाती है कि जैसे ही दर्द के शुरुआती लक्षण दिखाई दें, आप डॉक्टर से मिलें
लेख
लेख
लेख
सही तरीके से सांस लेने और छोड़ने की तकनीक के बारे में जानें

0

0

0

0

0

0

Opt-in To Our Daily Newsletter

* Please check your Spam folder for the Opt-in confirmation mail

Opt-in To Our
Daily Newsletter

We use cookies to customize your user experience, view our policy here

आपकी प्रतिक्रिया सफलतापूर्वक सबमिट कर दी गई है।

हैप्पीएस्ट हेल्थ की टीम जल्द से जल्द आप तक पहुंचेगी